CM नीतीश के मंत्री ने ही खोली बिहार में सुशासन की पोल, कहा- राज्य में बैठे हैं कुछ निकम्मे अधिकारी

बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सुशासन की पोल इस बार विपक्ष ने नहीं बल्कि उनके मंत्री ने ही खोली है। नीतीश सरकार के मंत्री नीरज सिंह बबलू ने कहा है कि राज्य में अभी भी कुछ निकम्मे अधिकारी बैठे हुए हैं, जिनके कारण सरकार की बदनामी हो रही है।

नीरज ने उठाए अपने ही शासन पर सवाल
बिहार में अभी अपराधियों का मनोबल चरम पर है। बीते कुछ महीनों में बिहार में आपराधिक घटनाओं में अप्रत्याशित रूप से वृद्धि हुई है। इस मुद्दे पर विपक्ष तो बिहार के नीतीश सरकार पर हमलावर है ही, लेकिन अब सत्ताधारी के नेता व नीतीश कैबिनेट के मंत्री भी अपने ही शासन पर सवाल उठाने लगे हैं। होली के दिन एक ही परिवार के 5 लोगों की हत्या मामले में मधुबनी जिले के बेनीपट्टी के मोहम्मदपुर पहुंचे बिहार सरकार में मंत्री नीरज सिंह बबलू ने कहा कि राज्य में अभी भी कुछ निकम्मे अधिकारी बैठे हुए हैं, जिनके कारण सरकार की बदनामी हो रही है और वो सरकार को बदनाम करने के लिए ही बैठे हुए हैं, लेकिन दोषी बख्से नहीं जाएंगे, सभी अपराधियों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

मोहम्मदपुर की घटना नरसंहार- नीरज
भाजपा कोटे से नीतीश सरकार में मंत्री नीरज सिंह बबलू ने मधुबनी के मोहम्मदपुर की घटना को नरसंहार करार देते हुए कहा कि इस घटना की जितनी निंदा की जाए वो कम है, घटना में शामिल नामित लोगों की गिरफ्तारी के लिए हम लोग पुलिस से बात कर रहे हैं और घटना की उच्चस्तरीय जांच के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी बात की जाएगी। उन्होंने कहा कि कोई अपराधी बच न पाए, सभी पर कर्रवाई हो, इसका विशेष ध्यान रखा जाएगा, पीड़ित परिवार को जीवन यापन के लिए मुआवजा और नौकरी मिले, इस मुद्दे पर भी बात होगी।

राज्य में कुछ निकम्मे अधिकारी बैठे हैं- नीरज
अपराधियों के बीच पुलिस का इकबाल कम होने के सवाल पर नीरज सिंह बबलू ने कहा कि ये एक अलग मुद्दा है, लेकिन राज्य में अभी भी कुछ निकम्मे अधिकारी बैठे हुए हैं, जिनके कारण सरकार की बदनामी हो रही है और वो सरकार को बदनाम करने के लिए ही बैठे हुए है, ऐसे में मैं ऐसा जरूर चाहूंगा कि ऐसे निकम्मे पदाधिकारियों पर कार्रवाई हो, पुलिस को चुस्त-दुरुस्त रहने की आवश्यकता है, जहां भी घटना घटती है, पुलिस वहां तुरंत कार्रवाई करे, तभी ये निकम्मापन खत्म होगा। उन्होंने कहा कि गैंगवार या वर्चस्व की लड़ाई में जो भी बात हो, पुलिस उसकी जांच करे और एफआईआर दर्ज कर नामित आरोपियों पर कार्रवाई करे, आरोपियों के फरार होने की स्थिति में उनके घर की कुर्की-जब्ती हो, तभी अपराधी सरेंडर करेंगे, नहीं तो भागे रहेंगे।

गोलीबारी में अब तक 5 लोगों की मौत
गौरतलब है कि होली के दिन खुलेआम की गई गोलीबारी में अब तक 5 लोगों की मौत हो चुकी है, घटना के बाद पूरे इलाके में मातम पसरा है, गोलीबारी में घटनास्थल पर ही 2 लोगों की मौत हो गयी थी, जबकि गोलीबारी में घायल चार अन्य लोगों को बेहतर इलाज के लिए डीएमसीएच रेफेर कर दिया गया था, लेकिन इलाज के दौरान 3 अन्य लोगों की भी मौत गई। घटना के बाद घटनास्थल का मुआयना करने पहुंचे मधुबनी के एसपी सत्यप्रकाश ने बताया था कि घटना का कारण आपसी विवाद था, साथ ही एसपी सत्यप्रकाश ने मामले की जांच के लिए एसडीपीओ बेनीपट्टी के नेतृत्त्व में एक एसआईटी का गठन भी कर दिया है, जिसमें 4 थानों की पुलिस और सर्किल इंस्पेक्टर को शामिल किया गया है।

Load More Related Articles
Load More By RN Prasad
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा- CBSE रिजल्ट से असंतुष्ट छात्रों को अगस्त में मिलेगा परीक्षा देने का मौका

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने आज सीबीएसई की 12वीं बोर्ड परीक्षा परिणाम से …