उत्तरी MCD कर्मियों की कोरोना से मौत होने पर उसके परिवार के एक सदस्य को मिलेगी नौकरी

कोरोना संकट में जान जोखिम में डालकर कार्य कर रहे उत्तरी दिल्ली नगर निगम के कर्मियों के लिए नई नीति आएगी। इसके तहत अगर किसी निगम कर्मी की कोरोना के चलते जान जाती है तो उसके परिवार के एक व्यक्ति को नौकरी दी जाएगी।

इसका उद्देश्य निगम कर्मियों का मनोबल बढ़ाना है
इस नई नीति के तहत अगर कोई निगम कर्मी स्थायी नौकरी में है तो उसके परिवार के एक सदस्य को स्थायी और अनुबंधित कर्मी है तो उसके परिवार के एक सदस्य को अनुबंधित आधार पर नौकरी दी जाएगी। इस नीति का उद्देश्य निगम कर्मियों का मनोबल बढ़ाना है, ताकि वे बिना किसी डर के कोरोना से निपटने में कार्य कर सकें। उत्तरी दिल्ली नगर निगम के महापौर जय प्रकाश ने बताया कि निगम कर्मियों की ओर से लॉकडाउन में किए गए कार्यो की वजह से लोगों को संक्रमण से बचाने में मदद मिली। निगम कर्मी न केवल घर-घर जाकर कोरोना के मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों का सर्वे कर रहे थे, बल्कि निगम का कर्मी सफाई करने भी जा रहा था। इसके साथ ही वे सैनिटाइजेशन के कार्य में भी लगे थे।

दक्षिणी MCD इस तरह की नीति लागू कर चुका है
महापौर जय प्रकाश ने कहा कि कोरोना के मरीज आने पर या फिर इलाके को कंटेनमेंट जोन बनने पर लोग उन इलाकों में जाने से डरते थे, लेकिन निगम कर्मी सर्वे से लेकर सैनिटाइजेशन का कार्य करता था, ऐसे में उनका मनोबल बना रहे और वे बिना परिवार की चिंता किए काम कर सकें, इसके लिए हमने यह नई नीति लाने का फैसला लिया है। इस फैसले के आधार पर निगम के किसी भी कर्मी की कोरोना से मृत्यु होने पर उसके परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जाएगी। ध्यान रहे कि इससे पहले दक्षिणी दिल्ली नगर निगम भी इस तरह की नीति को लागू कर चुका है।

लॉकडाउन से लागू होगी नई नीति
उत्तरी दिल्ली नगर निगम के मुताबिक, भले ही इस नई नीति को अब मंजूरी दी जा रही है, लेकिन यह प्रभावी लॉकडाउन के दौरान से होगी, ऐसे में उन कर्मियों के परिवार को इसका लाभ होगा, जो कोरोना में ड्यूटी के दौरान संक्रमित होकर अपनी जान गंवा बैठे। नगर निगम के विभिन्न विभागों में तैनात एक दर्जन कर्मियों की कोरोना की वजह से जान जा चुकी है। इस नीति को लागू होने के बाद उन सभी के परिवार के एक सदस्य को नौकरी निगम में योग्यता के आधार पर दी जाएगी।

Load More Related Articles
Load More By RN Prasad
Load More In दिल्ली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

केएस भगवान का आपत्तिजनक बयान, कहा- ‘भगवान राम हर दोपहर अपनी पत्नी सीता के साथ बैठकर शराब पीते थे’

आजकल देश में खुद को सुर्खियों में बने रखने के लिए कइयों ने किसी धर्म, भगवान, राजनेता या अभ…