PM मोदी ने की दुनिया के सबसे बड़े कोरोना वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत…जानिए मोदी ने क्या कहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशभर में आज 16 जनवरी को सुबह 10:30 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दुनिया का सबसे बड़ा कोरोना वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत की। कोरोना वैक्सीन के महाभियान की शुरुआत के अपने संबोधन में पीएम मोदी भावुक हो गए।

मोदी ने देश के वैज्ञानिकों को दी बधाई
प्रधानमंत्री मोदी ने आज कोरोना वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत के अपने संबोधन में उन लोगों को याद किया जिनकी कोरोना महामारी की वजह से जान चली गई। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कोरोना काल के उस वक्त को याद करके सिहरन होती है, दुख होता है। उन्होंने देश के वैज्ञानिकों को बधाई दी और कहा कि यह दुनिया का सबसे बड़ा कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम शुरू हो रहा है, बेहद कम समय में 2 कोरोना वैक्सीन तैयार हुई है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दोनों डोज लगवाना जरूरी है और टीका लगवाते ही आप ऐसा कभी न करें कि कोरोना के एहतियाती उपायों को भूल जाएं, मास्क, 2 गज की दूरी इन सभी बातों का पालन करना अभी भी जरूरी है।

वैक्सीनेशन के समय धैर्य दिखाएं- मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जैसा धैर्य देश के लोगों ने कोरोना के खिलाफ जंग में दिखाया, वैसा ही धैर्य अभी वैक्सीनेशन के समय भी दिखाना होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 17 जनवरी, 2020 वो तारीख थी जब भारत ने अपनी पहली एडवायजरी जारी कर दी थी, भारत दुनिया के उन पहले देशों में से था जिसने अपने एयरपोर्ट्स पर यात्रियों की स्क्रीनिंग शुरू कर दी, भारत ने 24 घंटे सतर्क रहते हुए हर घटनाक्रम पर नजर रखते हुए सही समय पर सही फैसले लिए।

वैक्सीन की 2 डोज लगनी जरूरी- मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत वैक्सीनेशन के अपने पहले चरण में ही 3 करोड़ लोगों का वैक्सीनेशन कर रहा है, मैं ये बात फिर याद दिलाना चाहता हूं कि कोरोना वैक्सीन की 2 डोज लगनी बहुत जरूरी है। पहली और दूसरी डोज के बीच करीब 1 महीने का अंतराल भी रखा जाएगा, दूसरी डोज लगने के 2 हफ्ते बाद ही आपके शरीर में कोरोना के विरुद्ध जरूरी शक्ति विकसित हो पाएगी। उन्होंने कहा कि दूसरे चरण में हमें इसको 30 करोड़ की संख्या तक ले जाना है, जो बुजुर्ग हैं, जो गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं, उन्हें इस चरण में टीका लगेगा, आप कल्पना कर सकते हैं कि 30 करोड़ की आबादी से ऊपर के दुनिया के सिर्फ 3 ही देश हैं- भारत, चीन और अमेरिका।

लॉकडाउन से कोरोना को फैलने से रोका गया- मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 30 जनवरी, 2020 को भारत में कोरोना का पहला मामला मिला, लेकिन इसके 2 सप्ताह से भी पहले भारत एक हाई लेवल कमेटी बना चुका था, हम दूसरों के काम आएं, ये निस्वापर्थ भाव हमारे भीतर रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना कर्फ्यू ने देश के लोगों को तैयार किया, लॉकडाउन के जरिए कोरोना को फैलने से रोका गया, भारत की इच्छााशक्ति और साहस प्रेरणा बनी, सफाई कर्मचारियों ने अपना जीवन दांव पर लगा दिया।

भारत की वैक्सीन देश के मौसम के अनुकूल- मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि भारत की वैक्सीन देश के मौसम के अनुकूल है, भारतीय वैक्सीन दुनिया की बाकी वैक्सीन्स के मुकाबले काफी सस्तीे है, भारतीय वैक्सीन का स्टोरेज बेहद आसान है, देश में आज 2300 से ज्यादा वैक्सीनेशन लैब हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्र सिर्फ मिट्टी, पानी, कंकड़, पत्थर से नहीं बनता, बल्कि राष्ट्र का मतलब होता है हमारे लोग, संकट कितना भी बड़ा क्यों न हो, देशवासियों ने कभी आत्मविश्वास खोया नहीं, जब भारत में कोरोना पहुंचा तब देश में कोरोना टेस्टिंग की एक ही लैब थी, हमने अपने सामर्थ्य पर विश्वास रखा और आज 2300 से ज्यादा नेटवर्क हमारे पास है।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जीत दिलाएगी वैक्सीन
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत की वैक्सीन ऐसी तकनीक पर बनाई गई है जो भारत में ट्राइड और टेस्टेड है, ये वैक्सीन स्टोरेज से लेकर ट्रांसपोर्टेशन तक भारतीय स्थितियों और परिस्थितियों के अनुकूल हैं, यही वैक्सीन भारत को कोरोना के खिलाफ लड़ाई में निर्णायक जीत दिलाएगी। उन्होंने कहा कि भारत के वैक्सीन वैज्ञानिक, हमारा मेडिकल सिस्टम, भारत की प्रक्रिया की पूरे विश्व में बहुत विश्वसनीयता है, हमने ये विश्वास अपने ट्रैक रिकॉर्ड से हासिल किया है, इतिहास में इस प्रकार का और इतने बड़े स्तर का वैक्सीनेशन अभियान पहले कभी नहीं चलाया गया है।

3006 केंद्रों से वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत
ध्यान रहे कि आज देशभर में कुल 3006 केंद्रों से वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत हुई है। आज पहले दिन एक केंद्र पर 100 लोगों को टीका लगाया गया है। वैक्सीनेशन अभियान के पहले चरण में एकीकृत बाल विकास सेवा (आईसीडीएस) के कार्यकर्ता समेत सरकारी और निजी क्षेत्र के स्वास्थ्य कर्मचारियों को टीका लगेगा। कोरोना वैक्सीनेशन से संबंधित किसी भी जानकारी के आदान-प्रदान के लिए एक कॉल सेंटर-1075 भी बनाया गया है। कोरोना वैक्सीनेशन अभियान प्रतिदिन सुबह 9 से शाम 5 बजे तक आयोजित किया जाएगा।

Load More Related Articles
Load More By RN Prasad
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा- CBSE रिजल्ट से असंतुष्ट छात्रों को अगस्त में मिलेगा परीक्षा देने का मौका

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने आज सीबीएसई की 12वीं बोर्ड परीक्षा परिणाम से …