दलाई लामा ने चीन को दिया बड़ा झटका, मंगोलियाई बच्चे को बनाया तिब्बत का तीसरा सबसे बड़ा धर्मगुरु

तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने चीन को बड़ा झटका दिया है। दलाई लामा ने अमेरिका में पैदा हुए एक मंगोलियाई बच्चे को बौद्ध धर्म में तीसरे सबसे महत्वपूर्ण आध्यात्मिक नेता के पुनर्जन्म के रूप में नामित किया गया है। दलाई लामा का ये कदम चीन को चिढ़ाने वाला है और माना जा रहा है कि उन्होंने अपने इस कदम से भारत-चीन विवाद में मंगोलिया को भी खींच लिया है। हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में एक समारोह के दौरान 8 साल के मंगोलियन लड़के को दलाई लामा ने तिब्बत का तीसरा सबसे बड़ा गुरु नामित किया है और उनकी तस्वीर अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है। आपको बता दें कि तिब्बती धर्मगुरु 87 साल के दलाई लामा धर्मशाला में निर्वासन में रहते हैं और भारत और चीन के बीच दलाई लामा को लेकर अकसर विवाद होता रहता है।

8 साल का मंगोलियाई बच्चा बना धर्मगुरु
मंगोलियाई मूल का 8 साल का ये लड़का अब दलाई लामा और पंचेन लामा के बाद बौद्ध धर्म का तीसरा सबसे बड़ा गुरु बन गया है और दलाई लामा ने इस लड़के को 10वें खलखा जेटसन धम्पा रिनपोछे का पुनर्जन्म होने के तौर पर मान्यता दी है। दरअसल, बौद्ध धर्म में पुनर्जन्म का काफी महत्वपूर्ण स्थान है और माना जाता है कि धर्मगुरुओं का पुनर्जन्म होता है और उन्हें फिर से गुरु बनाने के लिए उनकी तलाश की जाती है। ऐसा माना जाता है कि धर्मगुरु का जन्म पूरी दुनिया में कहीं भी हो सकता है। मंगोलियाई मीडिया रिपोर्टों से पता चलता है कि ये बच्चा जुड़वां लड़कों में से एक है जिसका नाम अगुइदाई और अचिल्टाई अल्टानार है जो अलतनार चिंचुलुन और मोनखनासन नर्मंदख के बेटे हैं। बच्चे के पिता अलतनार चिंचुलुन एक विश्वविद्यालय में गणित के प्रोफेसर और राष्ट्रीय संसाधन समूह की सीईओ हैं। लड़के की दादी गरमजाव सेडेन मंगोलियाई संसद की पूर्व सांसद रह चुकी हैं।

दलाई लामा के कदम से भड़केगा चीन
मंगोलियाई लड़के को बौद्ध धर्म का आध्यात्मिक नेता बनाया जाना चीन की नाराजगी को हवा दे सकता है। चीन की कोशिश किसी चीनी लड़के या फिर चीन के प्रति झुकाव रखने वाले किसी लड़के को आध्यात्मिक गुरु बनाना है। चीन की कोशिश दलाई लामा के जगह पर भी किसी चीनी लड़के को अगला दलाई लामा बनाना है लिहाजा मंगोलाई लड़के को गुरु बनाने से चीन भड़क सकता है। चीन पहले ही पूरी सख्ती के साथ कह चुका है कि वह केवल उन बौद्ध नेताओं को मान्यता देगा, जिन्हें चीन सरकार द्वारा अनुमोदित विशेष नियुक्तियों की तरफ से चुना गया हो। हालांकि, खुद दलाई लामा और अमेरिका चीन की इस मांग को ठुकरा चुके हैं। चीन चाहता है कि अगला दलाई लामा उसके पक्ष का हो ताकि वो काफी आसानी से तिब्बत के लोगों को अपने पाले में कर सके। भारत-चीन विवाद में मंगोलिया की एंट्री मंगोलिया के लोगों के लिए ये घटनाक्रम उत्साह और आश्चर्य दोंनों का विषय है। इसके साथ ही मंगोलिया चीन के साथ संभावित दुश्मनी की बात को लेकर भी आशंकित है।

दूसरे बड़े गुरु पंचेन लामा को चुना था
इससे पहले साल 1995 में जब दलाई लामा ने बौद्ध धर्म के दूसरे सबसे बड़े गुरु पंचेन लामा को चुना था तो उस बच्चे को चीनी अधिकारियों ने फौरन गिरफ्तार कर लिया था और उस बच्चे को अपने उम्मीदवार के साथ बदल दिया था। लिहाजा इस बात की तीव्र आशंका बनी हुई है कि जब खुद मौजूदा दलाई लामा अपने शरीर का त्याग करेंगे तो फिर चीन क्या करेगा? ऐसा इसलिए क्योंकि मौजूदा दलाई लामा घोषणा कर चुके हैं कि अगला दलाई लामा चीनी नियंत्रित क्षेत्र से नहीं होगा जो यह दर्शाता है कि उनका उत्तराधिकारी किसी अन्य देश से उभर सकता है जिसमें भारत, नेपाल, भूटान या मंगोलिया जैसे देश हो सकते हैं, जहां पर तिब्बती बौद्ध धर्म का अभ्यास किया जाता है। लेकिन चीन का कहना है कि वो उसी दलाई लामा को मान्यता देगा जिसे चीन सरकार की बनाई गई कमेटी चुनेगा। लिहाजा, अगले दलाई लामा पर भी भारी विवाद होने वाला है।

Load More Related Articles
Load More By RN Prasad
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

PM मोदी बिहार से लोकसभा चुनाव अभियान का आगाज करेंगे, पश्चिम चंपारण के बेतिया में 13 जनवरी को पहली रैली करेंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2024 लोकसभा चुनाव अभियान की शुरुआत बिहार से कर सकते हैं। न्यूज ए…