मोदी ने कहा- कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अब और अधिक ध्यान केंद्रित करने की जरूरत, मानवीय स्वभाव है कि लोग घर जाना चाहते हैं !

वैश्विक महामारी कोविड-19 की रोकथाम के लिए 25 मार्च से 17 मई तक 54 दिनों के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान आज चौथी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए समीक्षा बैठक की। इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने सभी मुख्यमंत्रियों की प्रशंसा की।

समीक्षा बैठक को सबसे पहले अमित शाह ने संबोधित किया

वैश्विक महामारी कोविड-19 की रोकथाम के लिए 25 मार्च से 17 मई तक 54 दिनों के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान आज चौथी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए समीक्षा बैठक की। प्रधानमंत्री मोदी की इस समीक्षा बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण तथा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन भी मौजूद थे। इस बैठक के शुरू होने के साथ ही सबसे पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने संबोधित किया, इससे बाद प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी बात रखी, यह बैठक करीब 6 घंटे चली।

प्रधानमंत्री मोदी की बैठक में अधिकतर मुख्यमंत्री हुए शामिल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस समीक्षा बैठक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश सिंह बघेल, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री वीएस येदियुरप्पा, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर समेत देश के अधिकतर राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल हुए।

आने वाली चुनौतियों को लेकर संतुलित रणनीति बनानी होगी- मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ इस बैठक के दौरान कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने, लॉकडाउन से चरणबद्ध तरीके से बाहर निकलने तथा आर्थिक गतिविधियां तेज करने के उपायों पर चर्चा की, इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने मुख्यमंत्रियों की प्रशंसा भी की। उन्होंने कहा हमें कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अब और अधिक ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है, आगे के रास्ते तथा सामने आने वाली चुनौतियों को लेकर संतुलित रणनीति बनानी होगी एवं लागू करनी होगी।

मानवीय स्वभाव है कि लोग घर जाना चाहते हैं- मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने इस बैठक के दौरान कहा कि कोविड-19 महामारी से निपटने में भारत की सफलता को वैश्विक मान्यता मिली है, भारत सरकार इस संबंध में सभी राज्य सरकारों द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना करती है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमने जोर देकर कहा कि लोगों को वहीं रहना चाहिए जहां वे हैं, लेकिन यह मानवीय स्वभाव है कि लोग घर जाना चाहते हैं तथा इसलिए हमें अपने निर्णयों को बदलना होगा, कुछ निर्णय को हमें बदलने भी पड़े हैं।

देश का ग्रामीण क्षेत्र कोरोना संकट से मुक्त रहे- मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमें यह भी सुनिश्चित करना होगा कि देश का ग्रामीण क्षेत्र कोरोना संकट से मुक्त रहे, धीरे-धीरे देश के कई हिस्सों में आर्थिक गतिविधियां शुरू हो गई हैं, आने वाले दिनों में ये काम और तेजी से होगा। ध्यान रहे कि 10 मई को कैबिनेट सचिव राजीव गौबा के साथ बैठक के दौरान राज्यों के मुख्य सचिवों ने उन्हें बताया था कि कोविड-19 से सुरक्षा जरूरी है, लेकिन साथ ही आर्थिक गतिविधियों को भी चरणबद्ध तरीके से बहाल करने की जरूरत है।

विजय रूपाणी ने लॉकडाउन को बढ़ाने का विरोध किया

ध्यान रहे कि प्रधानमंत्री मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ पिछली समीक्षा बैठक 27 अप्रैल को हुई थी, जिसके कुछ दिन बाद केंद्र सरकार ने देशव्यापी लॉकडाउन को 2 हफ्तों के लिए और बढ़ाकर 17 मई तक कर दी थी, लेकिन आर्थिक गतिविधियों तथा लोगों के आने-जाने की कुछ छूट दी थी। इस बैठक के दौरान महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तथा पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लॉकडाउन को बढ़ाने की मांग की, जबकि गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने लॉकडाउन को बढ़ाने का विरोध किया।

कोरोना संकट से निपटने में राज्यों के साथ राजनीति नहीं होनी चाहिए– ममता

इस बैठक में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लॉकडाउन की अवधि को फिर से बढ़ाने की मांग की तथा उन्होंने प्रधानमंत्री से कहा कि कोरोना संकट से निपटने में राज्यों के साथ किसी तरह की राजनीति नहीं होनी चाहिए। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी लॉकडाउन फिर से बढ़ाने की वकालत करते हुए इसके लिए सही रणनीति बनाने का सुझाव देते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन को बढ़ाया जाए, लेकिन सावधानी पूर्वक तैयार की गई स्ट्रैटिजी के साथ।

पलानीसामी ने 31 मई तक ट्रेन तथा एयर सर्विस पर पाबंदी की मांग की

इस बैठक के दौरान राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी पूरे देश में लोगों की आने-जाने पाबंदी की मांग करते हुए कहा कि रेड जोन से ग्रीन जोन तक किसी भी इलाके में आने-जाने की अनुमति नहीं होनी चाहिए। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानीसामी ने 31 मई तक राज्य में रेल सेवा बहाल नहीं करने का प्रधानमंत्री से आग्रह करते हुए कहा कि तमिलनाडु में 31 मई तक ट्रेन सर्विस की अनुमति नहीं दें तथा रेग्युल एयर सर्विस पर भी पाबंदी लगी रहे।

केजरीवाल ने आर्थिक गतिविधियां को शुरू करने की अनुमति मांगी

प्रधानमंत्री मोदी की इस बैठक के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के हॉटस्पॉट इलाके को छोड़ कर सभी हिस्सों में फिर से आर्थिक गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति दी जानी चाहिए। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने प्रधानमंत्री के सामने अपनी बात रखते हुए कहा कि हरियाणा में गेहूं की अच्छी फसल हुई है, इसकी बदौलत राज्य देश की जीडीपी में बड़ा योगदान करेगा।

आपके सुझाव के आधार पर हम देश की आगे की दिशा तय करेंगे– मोदी

इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि हमने सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं किया, हमारी समस्याएं वहीं बढ़ी, प्रधानमंत्री मोदी ने सभी मुख्यमंत्रियों से कहा कि केंद्र सरकार उनके सुझावों के आधार पर ही फैसले लेता है तथा आगे की दिशा भी उन्हीं के सुझावों के आधार पर तय होगी, आज आप जो सुझाव दिए हैं, उसके आधार पर ही हम देश की आगे की दिशा तय कर पाएंगे।

भारत में कोरोना संक्रमित 70,700 के पार, मरने वालों की संख्या 2291 पहुंची

गौरतलब है कि अब तक भारत में कोरोना वायरस पॉजिटिव केसों की संख्या करीब 70,700 से ज्यादा हो चुकी है, कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या 22488 हो गई है, जबकि कोरोना से मरने वालों की संख्या 2291 हो चुकी है। अब तक पूरे विश्व में कोरोना पॉजिटिव केसों की कुल संख्या 42 लाख, 25 हजार को पार कर चुकी है तथा इससे मरने वालों की संख्या 2 लाख, 85 हजार को पार कर चुकी है। विश्व में सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव केसों की कुल संख्या अमेरिका में करीब 13 लाख, 73 हजार पहुंच चुकी है, जबकि इससे मरने वालों की संख्या यहां करीब 80,900 हो चुकी है।

Load More Related Articles
Load More By RN Prasad
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

टैक्सपेयर्स के लिए बड़ी राहत, ‘विवाद से विश्वास’ स्कीम के तहत पेमेंट की डेडलाइन 30 सितंबर तक बढ़ाई गई

केंद्र सरकार ने विवाद से विश्वास स्कीम के तहत पेमेंट की डेडलाइन एक महीने बढ़ा दी है, जबकि …