ममता दीदी के लिए 2019 से भी मुश्किल होने वाला है 2024, 6 महीने में NDA के पक्ष में बदली तस्वीर, जानिए क्या बता रहा है सर्वे

हाल ही में 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर एक सर्वे आया है। इसके नतीजों पर गौर करें तो पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सुप्रीमो ममता बनर्जी की टेंशन बढ़ती नजर आ रही है।

ममता बनर्जी की उम्मीदों के लिए झटका
लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर अब करीब 1 साल का ही समय बचा है, सभी पार्टियों ने अपना रथ चुनावी युद्ध के मैदान की ओर मोड़ दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए तीसरी बार जीत के लिए जोर लगा रही है, वहीं पीएम बनने की उम्मीद लगाए कई और चेहरे पूरी ताकत लगाने की कोशिश कर रहे हैं, इनमें एक नाम ममता बनर्जी का भी है। इस बीच एक सर्वे आया है जिसके नतीजे ममता बनर्जी की उम्मीदों के लिए झटका साबित हो सकते हैं।

सी वोटर और इंडिया टुडे की सर्वे
सी वोटर और इंडिया टुडे ने हाल ही में एक सर्वे किया है जिसमें देश का मिजाज जानने की कोशिश की गई है। सर्वे में देश भर के 1.39 लाख से ज्यादा लोगों के हिस्सा लिए जाने का दावा किया गया है। सर्वे के नतीजे ममता बनर्जी के लिए बुरी खबर लाए हैं। सर्वे के मुताबिक पश्चिम बंगाल में एनडीए की सीट बढ़ती दिखाई दे रही हैं, सिर्फ 6 महीने में राज्य की पूरी तस्वीर ही बदल गई है।

सर्वे में एनडीए को 22 सीटें मिलेंगी!
पश्चिम बंगाल में लोकसभा की 42 सीटें हैं। साल 2019 के लोकसभा चुनाव में एनडीए ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 18 सीटों पर कब्जा जमाया था, वहीं राज्य में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस को 22 सीटें ही मिली थी। जनवरी 2023 में आए ताजा सर्वे में एनडीए की सीटें बढ़ती दिखाई दे रही हैं। सर्वे के मुताबिक पश्चिम बंगाल में एनडीए को 20 सीटें मिलने का अनुमान है, सिर्फ 6 महीने पहले ही हुए सर्वे में एनडीए राज्य में दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू रही थी। अगस्त 2022 में इसी एजेंसी ने सर्वे किया था, उस समय एनडीए को सिर्फ 7 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया था।

ममता दीदी के लिए खतरे की घंटी
सर्वे में जिस तरह से एनडीए की सीटें बढ़ी हैं, वह टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी के लिए खतरे की घंटी है। 2021 में हुए राज्य के विधानसभा चुनावों में टीएमसी ने एकतरफा जीत हासिल की थी, राज्य की 284 सीट में से 211 सीट टीएमसी के खाते में गई थी। ताजा सर्वे पर नजर डालें तो लोकसभा चुनाव को लेकर टीएमसी की लोकप्रियता में कमी आई है और भाजपा की तरफ लोगों का रुझान बढ़ा है।

विपक्ष का नेता बनने की रेस में ऊपर
ममता बनर्जी के लिए राहत की बात ये है कि विपक्ष के नेता के रूप में उन्हें पसंद करने वालों की संख्या बढ़ी है। जनवरी 2022 के सर्वे में 17 फीसदी लोगों ने ममता बनर्जी में विपक्ष का नेता बनने की संभावना देखी थी, जो 1 साल बाद जनवरी 2023 में बढ़कर 20 फीसदी पहुंच गई है।

आखिर देश में कौन?
सर्वे के मुताबिक, अगर आज लोकसभा चुनाव होते हैं तो एनडीए 298 सीट के साथ फिर से केंद्र में सरकार बना सकती है, जबकि कांग्रेस नीत यूपीए को 153 सीटें मिल रही हैं, जबकि अन्य दलों को 92 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है।

Load More Related Articles
Load More By RN Prasad
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

भारतीय क्रिकेट इतिहास में पहली बार हुआ बड़ा कारनामा, जानिए क्या हुआ?

भारतीय क्रिकेट इतिहास में आज बुधवार को पहली बार एक बड़ा कारनामा हुआ है। भारतीय क्रिकेट टीम…