G-20 शिखर सम्मेलन से रियल एस्टेट में आ सकता है बूम, खुलेंगे निवेश के द्वार!

भारत में पहली बार आयोजित हो रहे G-20 शिखर सम्मेलन से भारत के आर्थिक क्षेत्र को भी मजबूती मिलने की पूरी उम्मीद है। आत्मविश्वास से भरपूर भारतीय उद्योग जगत महामारी से सुरक्षित रूप से उबरने के बाद विश्व स्तर पर अपनी ताकत बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। यह बढ़ता आत्मविश्वास भारतीय अर्थव्यवस्था की बढ़ती ताकत का प्रतिबिंब है। केवल एक दशक में भारत दसवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था से अब पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है।

अब तक 18 से अधिक मंत्रिस्तरीय बैठकें हो चुके
भारत को जब से G-20 की कमान मिली है तब से अलग-अलग शहरों में वित्तीय ट्रैक की कई बैठकें हो चुकी हैं जिससे भारत को कई फायदे हुए हैं। पिछले साल नवंबर से लेकर अभी तक G-20 की 18 से अधिक मंत्रिस्तरीय बैठकें, 80 कार्य समूह स्तर पर और 33 एंगेजमेंट समूह की बैठकों के अलावा कई साइड इवेंट आयोजित किए जा चुके हैं। इन बातचीतों से न केवल भारतीय अधिकारियों और व्यवसायों को वैश्विक वित्त और विकास के विभिन्न पहलुओं में अंतर्दृष्टि प्रदान की है, बल्कि वैश्विक निर्णय लेने वाले लोगों तक पहुंच भी प्रदान की है।

रियल एस्टेट क्षेत्र में काफी प्रभाव पड़ने की उम्मीद
G-20 शिखर सम्मेलन से भारत की आर्थिक क्षमता पर अंतरराष्ट्रीय ध्यान केंद्रित होने की उम्मीद है, क्योंकि इस सम्मेलन में भारतीय और वैश्विक उद्योग के प्रमुखों की भागीदारी होगी। भारत में आयोजित G-20 शिखर सम्मेलन से देश के रियल एस्टेट क्षेत्र पर काफी प्रभाव पड़ने की उम्मीद है। खासकर इसका प्रभाव दिल्ली के आसपास स्थित एनसीआर और अंतरराष्ट्रीय कॉर्पोरेट केंद्र के रूप में जाने जाने वाले गुरुग्राम जैसे स्थानों पर महत्वपूर्ण होगा। G-20 शिखर सम्मेलन ने भारत पर अभूतपूर्व स्तर का अंतर्राष्ट्रीय ध्यान केंद्रित किया है। जब अगले महीने दुनिया के कई शीर्ष नेता नई दिल्ली में एकत्र होंगे, तब निश्विच रूप से देश की आर्थिक शक्ति और विकास क्षमता केंद्र में आ जाएंगी। इस अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन से वैश्विक मंच पर भारत के महत्व को दर्शाने के साथ-साथ देश के अनगिनत निवेश अवसरों के भी द्वार खुलेंगे।

G-20 के आयोजन से भारत की प्रतिष्ठा बढ़ी- नयन रहेजा
रहेजा डेवलपर्स के नयन रहेजा का कहना है कि “जैसा कि G-20 शिखर सम्मेलन के आयोजन से भारत की प्रतिष्ठा बढ़ी है और उन शहरों पर विशेष रूप से प्रभाव पड़ा है जहां बैठकें आयोजित की गई हैं। इससे लक्जरी रियल एस्टेट सेगमेंट को महत्वपूर्ण बढ़ावा मिला है। यह आयोजन एक आर्थिक महाशक्ति और एक वैश्विक खिलाड़ी के रूप में भारत की क्षमता को रेखांकित करता है, जो ध्यान आकर्षित करता है। हाई नेट वर्थ वाले व्यक्ति और निवेशक लक्जरी संपत्तियों की तलाश में हैं। अपने आधुनिक बुनियादी ढांचे, अंतरराष्ट्रीय कनेक्टिविटी और बेहतरीन बिजनेस इकोसिस्टम के साथ गुरुग्राम लक्जरी रियल्टी में इस तरह के निवेश को आकर्षित करने के लिए पूरी तरह तैयार है।”

भारत में G-20 का सम्मेलन पूरे क्षेत्र के लिए अच्छा संकेत- मोहित गोयल
ओमैक्स लिमिटेड के प्रबंध निदेशक मोहित गोयल का कहना है कि G-20 शिखर सम्मेलन भारत की आर्थिक ताकत और विकास की संभावनाओं को अंतरराष्ट्रीय चर्चा में सबसे आगे लाने के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करता है। यह प्रदर्शन अप्रत्यक्ष रूप से बहुराष्ट्रीय निगमों, विदेशी उद्यमों और एनआरआई से निवेश को आमंत्रित करता है। निवेश के परिणामस्वरूप होने वाले प्रवाह से आर्थिक गतिविधियों में वृद्धि होती है और देश भर में ढांचागत विकास। यह सब रियल्टी विकास पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालने वाला है, और यह पूरे क्षेत्र के लिए अच्छा संकेत है।

G-20 सम्मेलन एक प्रकाशस्तंभ के रूप में कार्य करता है- शांतनु गंभीर
राइज इंफ्रावेंचर्स लिमिटेड के प्रबंध निदेशक शांतनु गंभीर कहते हैं कि “व्यवसाय और वाणिज्य में बढ़े हुए निवेश से कार्यालय स्थानों और आवासीय संपत्तियों दोनों की मांग में वृद्धि होने का अनुमान है, जिसके परिणामस्वरूप गुरुग्राम में रियल एस्टेट क्षेत्र की वृद्धि होगी। G-20 शिखर सम्मेलन एक प्रकाशस्तंभ के रूप में कार्य करता है, जो इन निवेशकों को गुरुग्राम के रियल एस्टेट बाजार के करीब लाता है और इस तरह इसके विकास में योगदान देता है।”

G-20 सम्मेलन से NRI और विदेशी निवेशकों की रुचि बढ़ेगी- राज सिंह
नवराज ग्रुप के प्रबंध निदेशक राज सिंह का कहना है कि “गुरुग्राम के रियल एस्टेट क्षेत्र के लिए G-20 शिखर सम्मेलन का एक महत्वपूर्ण प्रभाव एनआरआई और विदेशी निवेशकों की बढ़ती रुचि में निहित है। G-20 शिखर सम्मेलन एक समृद्ध अर्थव्यवस्था के साथ निवेश-अनुकूल गंतव्य के रूप में भारत की प्रतिष्ठा को बढ़ाता है। एनआरआई, जिन्होंने पहले ही भारतीय रियल एस्टेट क्षेत्र में पर्याप्त उपस्थिति स्थापित कर ली है, अब उनके पास अपने निवेश का विस्तार करने का एक अतिरिक्त आकर्षक कारण है।”

G-20 सम्मेलन रियल एस्टेट के विकास को बढ़ावा देगा- राधिक्का राकेश गर्ग
राजदरबार ग्रुप के निदेशक राधिक्का राकेश गर्ग कहते हैं कि गुरुग्राम में रियल एस्टेट सेक्टर को इससे काफी फायदा होगा, क्योंकि यह वाणिज्यिक और आवासीय रियल एस्टेट विकास का केंद्र बिंदु बन गया है। नई दिल्ली G-20 शिखर सम्मेलन देश में बहुराष्ट्रीय कंपनियों, विदेशी कंपनियों और एनआरआई के निवेश का मार्ग प्रशस्त करेगा। इससे देश में आर्थिक गतिविधियों और ढांचागत विकास को बढ़ावा मिलेगा, जो बदले में वाणिज्यिक और आवासीय दोनों तरह के रियल एस्टेट क्षेत्र के विकास को बढ़ावा देगा।” भारत में रियल एस्टेट क्षेत्र पर G-20 शिखर सम्मेलन का प्रभाव गहरा और बहुआयामी होने की ओर अग्रसर है। इस शिखर सम्मेलन से आर्थिक महाशक्ति के रूप में देश की स्थिति को मजबूती मिलने के साथ-साथ एनसीआर जैसे प्रमुख केंद्रों में वाणिज्यिक और आवासीय रियल एस्टेट विकास पर जोर देगा।

Load More Related Articles
Load More By RN Prasad
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

सीआरसी क्रिकेट लीग में फोनिक्स फ्लायर्स 9 विकेट से जीता

नोएडा के ओपी स्पोर्ट्स क्रिकेट ग्राउंड पर सीआरसी ग्रुप द्वारा आयोजित सुपर लीग मुकाबले में …