भारत में कोरोना संक्रमण से ठीक होने की दर बढ़कर 41.61 फीसदी हुई, जबकि मार्च में 7.1 फीसदी थी…जानिए अब तक कितने मरीज ठीक हुए ?

वैश्विक महामारी कोविड-19 की रोकथाम के लिए केंद्र सरकार द्वारा 25 मार्च से 31 मई तक 68 दिनों के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन जारी है, फिर भी कोरोना का कहर देश में दिन पर दिन लगातार बढ़ता ही जा रहा है, इस बीच भारत के लिए आज एक अच्छी खबर आई है कि कोरोना संक्रमण से ठीक होने की दर बढ़कर 41.61 फीसदी हो गई है।

देश में कोरोना से ठीक होने की दर 41.61 फीसदी हुई

वैश्विक महामारी कोविड-19 की रोकथाम के लिए केंद्र सरकार द्वारा 25 मार्च से 31 मई तक 68 दिनों के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन जारी है, फिर भी कोरोना का कहर देश में दिन पर दिन लगातार बढ़ता ही जा रहा है, इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताया कि भारत के लिए आज एक अच्छी खबर आई है कि प्रत्येक लॉकडाउन के साथ कोरोना संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों का प्रतिशत बढ़ता चला गया है, यह बढ़कर अब 41.61 फीसदी हो गई है।

भारत में कोविड-19 से अब तक 60,490 मरीज ठीक हो चुके

लव अग्रवाल ने कहा कि विश्व के दूसरे देशों की तुलना में हमारे देश में कोरोना संक्रमण के मामले काफी कम रहे है, इसके अलावा मृत्यु दर के मामले में भी हम ज्यादा बेहतर स्थिति में हैं, हम उचित मात्रा में टेस्टिंग करने में जुटे हुए हैं। लव अग्रवाल ने कहा कि भारत में कोविड-19 से अब तक 60,490 मरीज पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं, जो कुल कोरोना संक्रमित का 41.61 फीसदी है, जबकि मार्च में 7.1 फीसदी रिकवरी रेट था।

विश्व में मौत की दर प्रति लाख आबादी में 4.4, जबकि भारत में 0.3 है

लव अग्रवाल ने कहा कि जब पहला लॉकडाउन 25 मार्च लगाया था तब रिकवरी रेट 7 फीसदी के आसपास थी, दूसरे लॉकडाउन में यह बढ़कर 11.24 फीसदी, तीसरे लॉकडाउन में यह बढ़कर 26.59 फीसदी तथा मौजूदा चौथे लॉकडाउन के समय में 41.61 फीसदी पहुंच चुकी है। विश्व के अन्य देशों के मुकाबले हमारे देश में स्थिति काफी बेहतर है। विश्व में अब तक मौत की दर प्रति लाख आबादी में 4.4 है, जबकि भारत में प्रति लाख आबादी में 0.3 लोगों की मौत हुई है, भारत में प्रति लाख आबादी पर 10.7 कोरोना मामले दर्ज किए गए हैं।

देश में पहले मृत्यु दर 3.03 फीसदी थी, जो अब 2.87 फीसदी हो गई

लव अग्रवाल ने कहा कि भारत में मृत्यु दर के मामले में भी सुधार हुआ है, पहले मृत्यु दर 3.03 फीसदी थी, जो अब 2.87 फीसदी हो गई है, कोरोना संक्रमण से 50 फीसदी मौत बुजुर्गों की हुई। उन्होंने कहा कि भारत में आज 612 लैब हैं, जो कोरोना वायरस की टेस्टिंग कर रही हैं, जिनमें 430 सरकारी लैब तथा 182 प्राइवेट लैब हैं, देश में अभी 1 दिन में औसतन 1 लाख 10 हजार टेस्टिंग हो रही है।

Load More Related Articles
Load More By RN Prasad
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

हेमंत सोरेन ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, तीसरी बार बने झारखंड के मुख्यमंत्री

झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने एक बार फिर आज गुरुवार को (4 जुलाई…