विजय माल्या को ब्रिटेन की अदालत से बड़ा झटका, माल्या को भारत लाने का रास्ता साफ !

वैश्विक महामारी कोविड-19 की रोकथाम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 25 मार्च से 3 मई तक 40 दिनों के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान भारत के भगोड़े कारोबारी व पूर्व सांसद विजय माल्या को ब्रिटेन की एक अदालत से बड़ा झटका लगा है। भारत प्रत्यर्पित करने के खिलाफ दायर की गई विजय माल्या की याचिका को ब्रिटेन की अदालत ने खारिज कर दिया है।

विजय माल्या की याचिका खारिज

वैश्विक महामारी कोविड-19 की रोकथाम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 25 मार्च से 3 मई तक 40 दिनों के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान भारत के भगोड़े कारोबारी व पूर्व सांसद विजय माल्या को ब्रिटेन की एक अदालत से बड़ा झटका लगा है, अदालत ने आज भारत प्रत्यर्पित करने के खिलाफ दायर की गई विजय माल्या की याचिका को खारिज कर दिया है। ऐसे में अब विजय माल्या को भारत लाने का रास्ता साफ हो गया है, माल्या करीब 9 हजार करोड़ रुपए की धोखाधड़ी तथा मनी लॉन्ड्रिंग मामले में भारत में वांछित है।

माल्या ने कहा था, काश भारत की वित्त मंत्री मेरी बात को सुनतीं    

विजय माल्या ने फरवरी, 2020 में ब्रिटेन के हाई कोर्ट में भारत के हवाले किए जाने के आदेश के खिलाफ याचिका दाखिल की थी। ब्रिटेन के हाई कोर्ट ने माना है कि विजय माल्या के खिलाफ भारत में कई बड़े आरोप लगे हैं। इससे पहले माल्या मार्च, 2020 में याचिका के संबंध में ट्विट करते हुए कहा था मैंने बैंको को लगातार उनके पूरे पैसे चुकाने के लिए ऑफर किया है, न तो बैंक पैसे लेने को तैयार रहे हैं तथा न ही ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) संपत्तियों को छोड़ने के लिए, काश इस समय भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मेरी बात को सुनतीं।

ब्रिटेन के सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर कर सकते हैं माल्या

कोरोना महामारी के चलते वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए की गई सुनवाई में ब्रिटेन के रॉयल कोर्ट में जस्टिस स्टीफन इविन तथा जस्टिस एलिजाबेथ लाइंग की दो सदस्यीय बेंच ने इस याचिका को खारिज कर दिया। अब माना जा रहा है कि विजय माल्या के पास ब्रिटेन हाई कोर्ट द्वारा ऑर्डर पास करने के बाद 14 दिन का वक्त होगा, जब वह सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर कर सकते हैं, अगर माल्या इसमें भी असफल साबित होते हैं तो उन्हें भारत प्रत्यर्पित किए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

पिछले 5 वर्षों से लंदन में हैं माल्या

ध्यान रहे कि अगर विजय माल्या की याचिका ब्रिटेन के सुप्रीम कोर्ट द्वारा भी खारिज कर दी जाती है, तो आखिरी फैसला ब्रिटेन का गृह मंत्रालय लेगा, जिसकी जिम्मेदारी फिलहाल भारतवंशी प्रीति पटेल के पास है। विजय माल्या  पिछले 5 वर्षों से लंदन में हैं, जहां उसके खिलाफ प्रत्यर्पण का मुकदमा चल रहा है।

भारत में कोरोना पॉजिटिव केस 18 हजार के पार, मरने वालों की संख्या 570 पहुंची

गौरतलब है कि अब तक भारत में कोरोना वायरस पॉजिटिव केसों की कुल संख्या करीब 18 हजार पार कर चुकी है, कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या 2968 हो गई है, जबकि कोरोना से मरने वालों की संख्या 570 हो चुकी है। अब तक पूरे विश्व में कोरोना पॉजिटिव केसों की कुल संख्या 24 लाख, 25 हजार को पार कर चुकी है तथा इससे मरने वालों की संख्या करीब 1 लाख, 66 हजार पहुंच चुकी है। विश्व में सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव केसों की कुल संख्या अमेरिका में करीब 7 लाख 64 हजार पहुंच चुकी है, जबकि इससे मरने वालों की संख्या यहां करीब 40,500 हो चुकी है।

Load More Related Articles
Load More By RN Prasad
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

PM मोदी का बड़ा बयान, कहा- ‘मैं किसी को डराने या चकमा देने के लिए फैसले नहीं लेता, मैं देश के पूरे विकास के लिए फैसले लेता हूं’

इंडियन इकोनॉमी पर बात करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘जहां तक 2047 विजन …